Home » राज्य » मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बीएसएससी पेपर लीक मामले की सीबीआइ जांच से इनकार कर दिया है.

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बीएसएससी पेपर लीक मामले की सीबीआइ जांच से इनकार कर दिया है.

👤 chinu dhingra | Updated on:2017-02-28 04:58:22.0

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बीएसएससी पेपर लीक मामले की सीबीआइ जांच से इनकार कर दिया है.

Share Post

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बीएसएससी पेपर लीक मामले की सीबीआइ जांच से इनकार कर दिया है. सोमवार को जदयू विधानमंडल दल की बैठक में उन्होंने कहा कि एसआइटी मामले की जांच कर रही है. बीएसएससी पेपर लीक हो या फिर टॉपर घोटाला, जांच की प्रक्रिया को जल्द अंजाम तक पहुंचाना है. मुझे एसआइटी पर पूरा भरोसा है. उन्होंने कहा कि ब्रह्मेश्वर मुखिया हत्याकांड में राज्य सरकार के दोबारा अनुरोध पर सीबीआइ ने जांच शुरू की थी. लेकिन, बिहार पुलिस इस मामले में जहां तक पहुंची थी, उससे एक कदम भी आगे सीबीआइ नहीं पहुंचा है.
मुख्यमंत्री ने विपक्ष को चुनौती देते हुए कहा कि बीएसएससी पेपर लीक में अगर किसी मंत्री या विधायक के खिलाफ कोई साक्ष्य है, तो वह उसे एसआइटी के सामने पेश करे. नीतीश कुमार ने सबौर कृषि विवि के कुलपति रहे मेवालाल चौधरी के कार्यकाल में हुए नियुक्ति घोटाले की फाइल सीएम ऑफिस में लंबित रखने के विपक्ष के आरोपों को भी खारिज किया. कहा कि सच तो यह है कि कुलाधिपति (राज्यपाल) कुलपति के नियंत्रणकर्ता होते हैं. कुलाधिपति ने जांच का आदेश दिया, जिसके आलोक में विवि के प्रोक्टर ने एफआइआर दर्ज करायी. इसमें राज्य सरकार को कटघरे में खड़ा करने के पीछे मुद्दों को भटकाने की मंशा है. उन्होंने कहा कि केंद्रीय मंत्री से लेकर मुख्यमंत्री के रूप में मैंने कभी भी प्रशासनिक कामों में, खास कर किसी मामले की जांच में हस्तक्षेप नहीं किया है. विधानसभा में उपनेता श्याम रजक के आवास पर आयोजित इस बैठक का संचालन संसदीय कार्य मंत्री श्रवण कुमार ने किया.

Like Us
Share it
Top