Home » अंतर्राष्ट्रीय » हिजबुल मुजाहिदीन के सरगना मसूद अजहर पर प्रतिबंध के मामले में चीन भले ही भारत की राह में रोड़े अटका रहा हो लेकिन वह खुद भी आतंकवाद के खतरे से जूझ रहा है.

हिजबुल मुजाहिदीन के सरगना मसूद अजहर पर प्रतिबंध के मामले में चीन भले ही भारत की राह में रोड़े अटका रहा हो लेकिन वह खुद भी आतंकवाद के खतरे से जूझ रहा है.

👤 Admin5 User | Updated on:2017-03-03 09:58:51.0

हिजबुल मुजाहिदीन के सरगना मसूद अजहर पर प्रतिबंध के मामले में चीन भले ही भारत की राह में रोड़े अटका रहा हो लेकिन वह खुद भी आतंकवाद के खतरे से जूझ रहा है.

Share Post

हिजबुल मुजाहिदीन के सरगना मसूद अजहर पर प्रतिबंध के मामले में चीन भले ही भारत की राह में रोड़े अटका रहा हो लेकिन वह खुद भी आतंकवाद के खतरे से जूझ रहा है. दरअसल दुनिया के सबसे खूंखार कहे जाने वाले आतंकी संगठन आईएसआईएस ने एक ताजा वीडियो में चीन को धमकी देते हुए कहा कि जल्द ही चीन की नदियों में खून बहेगा.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, चीन के जिनजियांग प्रांत में उइगर मुसलमानों की आबादी लंबे समय से सामान्य अधिकारों के लिए संघर्ष कर रही है. उन्हें अपने धार्मिक चिह्नों को सार्वजनिक करने, बुर्का पहनने और सार्वजनिक स्थानों पर नमाज पढ़ने जैसी छूट नहीं है. धार्मिक मामलों में सरकारी प्रतिबंध का विरोध धीरे-धीरे विद्रोह का रूप ले रहा है.

Like Us
Share it
Top