Home » धर्म समाचार » इस तरह करें नव वर्ष का स्वागत खुशियां आपकी कदम चुमेगी

इस तरह करें नव वर्ष का स्वागत खुशियां आपकी कदम चुमेगी

👤 A2ZNews Channel | Updated on:2016-12-28 08:36:40.0

इस तरह करें नव वर्ष का स्वागत खुशियां आपकी कदम चुमेगी

Share Post

नए विचारों का करें स्वागत, पुराने की विदाई तो नए का स्वागत। नए वर्ष के आगमन। नव वर्ष का स्वागत हम किस तरह करें, बता रहे हैं अलग-अलग अध्यात्मिक गुरु..नव वर्ष पुराने वर्ष को विदा देने के लिए द्वार तक आ पहुंचा है। ठीक उसी प्रकार नए विचार पुराने विचारों को विदा करने के लिए अग्रसर हो रहे हैं। यह सच है कि नए की नीव पुराने में ही पड़ी होती है। बीत चुके समय में यदि कोई बुरी यादें या कोई नकारात्मक विचार मन-मस्तिष्क को परेशान कर रहे हैं, तो 'बीत गई बात गई' की तर्ज पर उसे भूलने की कोशिश करें। तभी नव वर्ष में नए और सकारात्मक विचारों का आगाज हो पाएगा। भारत विभिन्न धर्मो का देश है। यहां अलग-अलग धर्मावलंबियों द्वारा नव वर्ष की शुरुआत अलग-अलग समय पर होती है। वास्तव में इन सबसे हटकर विचार करने पर कहा जा सकता है कि प्राणी मात्र जब अपने अंदर विद्यमान अहंकार पर विजय प्राप्त कर ले और अविद्या से पार पाकर विद्या का ज्ञान हासिल कर ले, तभी उसके जीवन के नववर्ष का प्रारंभ होना मानना चाहिए।विश्व की सभी समस्याओं के समाधान का एकमात्र रास्ता है हर बच्चे, बड़े, बूढ़े के हाथ में 'यथार्थ गीता' पहुंच जाए और वह उसका अध्ययन करने के बाद उसमें अपने प्रश्नों का समाधान प्राप्त कर ले। उसमें संस्कारों की नीव पड़ जाए, इससे सभी धमरें एवं संप्रदायों के बीच की दूरी अपने आप समाप्त हो जाएगी। साथ ही विश्व को एक नए वर्ष के शुभारंभ का निर्विवाद दिन मिल जाएगा। नए वर्ष में लोगों को सच्चे गुरु की शरण में पहुंचने की तलाश शुरू करनी चाहिए। अब तक जो इस संसार में भटक रहे हैं, उन्हें सही रास्ता सच्चे गुरु, सच्चे संत की शरण में पहुंचने के बाद ही मिल पाएगा। संसार में न कभी कुछ नया हुआ है और न कभी कुछ पुराना होगा। केवल काल-परिवर्तन के साथ ऐसा लगता है कि यहां कुछ नया हुआ है, जबकि सब पूर्व से ही जुड़ा रहता है। केवल उसके पास तक पहुंचने के लिए सद्गुरु के पास तक प्राणी को पहुंचना होगा। जैसे दिन निकलते ही चंद्रमा के प्रकाश का महत्व नहीं रह जाता है, उसी भांति सच्चा गुरु या संत मिल जाने पर अंधविश्वास की जकड़न समाप्त हो जाती है। गीता के उपदेश में भगवान श्रीकृष्ण ने कहा है कि जो भी करता हूं, मैं करता हूं। मुझ पर विश्वास करो, कर्म करो और उसके फल में क्या मिलना है, यह मुझ पर छोड़ दो। अहंकार, मोह, माया जैसी आसुरी प्रवृत्तियों को जब तक नहीं त्यागोगे, संसार से सद्गति की आशा निरर्थक होगी। नए साल की शुरुआत मन को संवारने से करें। भगवान श्रीकृष्ण के श्रीमुख से निकली गीता को जानने से करें। यथार्थ गीता को सर्वमान्य ग्रंथ बनाने के लिए संसार को नए वर्ष में परमात्मा शक्ति प्रदान करें, यही यथार्थ होगा।मुस्कुराहट के साथ करें नव वर्ष का स्वागत। जैसे ही हम कैलेंडर बदलते हैं, वैसे ही अतीत के पन्ने भी हमारे दिमाग में पलटने लगते हैं। अक्सर हमारी डायरियां समृतियों से भरी होती हैं। कभी भी अपने भविष्य को अतीत के साथ गड्ड-मड्ड नहीं करना चाहिए। वास्तव में अतीत की कुछ बातों को छोड़कर कुछ सीखेंगे, तभी आप स्वतंत्र हो पाएंगे।यदि दिमाग लोभ, घृणा, ईष्र्या जैसी नकारात्मक बातों से घिरा रहेगा, तो निश्चित ही जीवन में आप खुश और शांत नहीं रह पाएंगे। इसलिए पहले तो यह समझें कि जो भी ऋ णात्मक विचार हैं, वे सब अतीत की देन हैं। इसलिए अतीत को छोड़ दें। यदि आप अतीत को नहीं छोड़ पा रहे हैं, तो आपका भविष्य निश्चित रूप से दुखमय होगा। यह नया साल आपको जगा रहा है कि जिनके साथ अच्छे संबंध नहीं हैं, उनके साथ आप नए संबधों की शुरुआत करें। संकल्प लें कि अतीत को छोड़कर आगे बढेंगे।आप एक पंछी की तरह हैं, यह स्वतंत्रता आप स्वयं में महसूस करें। यदि आप स्वयं को किन्हीं चीजों या सिद्धांतों से बांधते रहते हैं, तो आप स्वयं को बंधन में ही पाएंगे। इसलिए स्वतंत्र हो जाएं। थोडे़ समय के लिए शांत होकर बैठ जाएं और स्वयं को संतुष्ट महसूस करें। कुछ समय ध्यान, मंत्र ध्यान और सत्संग में गुजारें। आप महसूस करेंगे कि आप अधिक सशक्त हो रहे हैं। सहज रहें, प्रेम में रहें, सेवा करें और जीवन को उत्सव की तरह लें। प्रत्येक वर्ष जब भी नया साल आए, तो एक-दूसरे से मिलकर यह संकल्प लें और दुआ करें कि इस धरती पर शांति और समृद्धि आए।

Like Us
Share it
Top