Home » धर्म समाचार » मंगलवार को ऐसा करने से शीघ्र ही कई कष्ट दूर होकर आपको सुख की अनुभति होगी

मंगलवार को ऐसा करने से शीघ्र ही कई कष्ट दूर होकर आपको सुख की अनुभति होगी

👤 A2ZNews Channel | Updated on:2016-12-12 12:44:45.0

मंगलवार को ऐसा करने से शीघ्र ही कई कष्ट दूर होकर आपको सुख की अनुभति होगी

Share Post

हनुमान जी एक ऐसे देवता हैं जो थोड़ी सी प्रार्थना और पूजा से शीघ्र प्रसन्न हो जाते हैं| शायद ही कोई ऐसा व्यक्ति हो जो इन्हें ना जानता हो हनुमान जी भगवान राम के अनन्य भक्त थे| शनिवार और मंगलवार का दिन इनके पूजन के लिए सर्वश्रेष्ठ माना जाता है| अगर आप अपनी परेशानियों से निजात पाना चाहते हैं तो आप निम्न मंत्र और उपाय अजमाएं| शीघ्र ही आपके सारे कष्ट दूर होकर आपको सुख की अनुभति होगी|

मंगलवार व्रत की विधि व महात्म्य:

सर्व सुख, रक्त विकार, राज्य सम्मान तथा पुत्र की प्राप्ति के लिए मंगलवार का व्रत उतम है |

इस व्रत में गेहू और गुड का ही भोजन करना चाहिए |

भोजन दिन रात में एक बार ही ग्रहण करना चाहिए |

व्रत 21 हफ्तों तक रखे |

इस व्रत से मनुष्य के सभी दोष नष्ट हो जाते हैं |

हनुमान जी की पूजा के लिए लोग मुख्य रूप से हनुमान चालीसा का पाठ करते हैं लेकिन हनुमान जी की पूजा के लिए कुछ आसान मंत्र निम्न हैं डर या भूत दूर करने वाले मंत्र।

ॐ दक्षिणमुखाय पच्चमुख हनुमते करालबदनाय

नारसिंहाय ॐ हां हीं हूं हौं हः सकलभीतप्रेतदमनाय स्वाहाः।

प्रनवउं पवनकुमार खल बन पावक ग्यानधन।

जासु हृदय आगार बसिंह राम सर चाप घर।।

शत्रुओं से मुक्ति के मंत्र

ॐ पूर्वकपिमुखाय पच्चमुख हनुमते टं टं टं टं टं सकल शत्रु सहंरणाय स्वाहा।

रक्षा व यथेष्ट लाभ मंत्र

अज्जनागर्भ सम्भूत कपीन्द्र सचिवोत्तम।

रामप्रिय नमस्तुभ्यं हनुमन् रक्ष सर्वदा।।

मुकदमे में विजय के लिए

पवन तनय बल पवन समाना।

बुधि बिबेक बिग्यान निधाना।

धन और स्मृद्धि के लिए

मर्कटेश महोत्साह सर्वशोक विनाशन ।

शत्रून संहर मां रक्षा श्रियं दापय मे प्रभो।।

कार्य की सिद्धि के लिए

ॐ हनुमते नमः

अच्छी सेहत के लिए

हनुमान अंगद रन गाजे।

हांके सुनकृत रजनीचर भाजे।।

नासे रोग हरैं सब पीरा।

व्रत के पूजन के समय लाल पुष्पों को चढावे और लाल वस्त्र धरण करे |

अंत में हनुमान जी की पूजा करनी चाहिए तथा मंगलवार की कथा सुननी चाहिए |

ॐ हं हनुमंतये नम: मंत्र का जप करें। हं हनुमते रुद्रात्मकाय हुं फट् का रुद्राक्ष की माला से जप करें। संकट कटै मिटै सब पीरा, जो सुमिरै हनुमत बलबीरा। राम-राम नाम मंत्र का 108 बार जप करें। हनुमान को नारियल, धूप, दीप, सिंदूर अर्पित करें। हनुमान अष्टमी के दिन हनुमान चालीसा का पाठ करें। राम रक्षा स्त्रोत, बजरंगबाण, हनुमान अष्टक का पाठ करें। हनुमान आरती, हनुमत स्तवन, राम वन्दना, राम स्तुति, संकटमोचन हनुमानाष्टक का पाठ करें। परिवार सहित मंदिर में जाकर मंगलकारी सुंदरकांड पाठ करें। हनुमान को चमेली का तेल, सिंदूर का चोला चढ़ाएं। गुड-चने और आटे से निर्मित प्रसाद वितरित करें। मंगलवार और शनिवार के दिन हनुमान मंदिर में जाकर रामभक्त हनुमान का गुणगान करें ।

Like Us
Share it
Top