Home » राज्य » दिल्ली NCR » दिल्ली यूनिवर्सिटी के कॉलेज  में पिछले पांच सालों में 4500 से ज्यादा टीचरों की नियुक्ति नहीं हुई है.

दिल्ली यूनिवर्सिटी के कॉलेज  में पिछले पांच सालों में 4500 से ज्यादा टीचरों की नियुक्ति नहीं हुई है.

👤 chinu dhingra | Updated on:2017-01-24 00:33:55.0

दिल्ली यूनिवर्सिटी के कॉलेज   में पिछले पांच सालों में 4500 से ज्यादा टीचरों की नियुक्ति नहीं हुई है.

Share Post

दिल्ली यूनिवर्सिटी के कॉलेज में पिछले पांच सालों में 4500 से ज्यादा टीचरों की नियुक्ति नहीं हुई है....वहीं 42 फीसदी कॉलेजों में प्रिंसिपल नहीं हैं.... जिसके चलते कॉलेज स्टाफ को खासी दिक्कतों का सामना कर पड़ रहा हैं....गौरतलब है कि अगले महीने कई प्रिंसिपलों के सेवानिवृत्त होने से प्रिंसिपल के बगैर चल रहे कॉलेजों की संख्या बढ़ सकती है...साथ ही शिक्षकों का दावा है कि सबसे बड़ी समस्या कॉलेजों में गवर्नेंस और फैसला लेने को लेकर होती है...वहीं कई लोगों का मानना है कि पूर्ववर्ती प्रशासन अपनी मर्जी के मुताबिक कॉलेजों को चलाने के लिए स्थायी प्रिंसिपलों की भर्ती नहीं कर रहा है...हंसराज और हिंदू कॉलेज समेत 66 में से 28 कॉलेज पिछले पांच सालों से कार्यवाहक प्रधानाचार्य के माध्यम से चल रहे हैं...वहीं टॉप कॉलेज जैसे श्री राम कॉलेज ऑफ कॉमर्स और किरोड़ी मल कॉलेज में भी स्थायी प्रधानाचार्य नहीं हैं..

Like Us
Share it
Top